शनिवार, 14 अप्रैल 2018

सुनहरा समय -मंजू सिंह


जीवन की भागदौड़ में कब ज़िन्दगी मुटठी की रेत की मानिंद हाथों से फिसल जाती है,पता ही नहीं चलता .घर बाहर की उलझनें ,बच्चो की ज़रूरतें,उनकी पढ़ाई,शादी और न जाने क्या-क्या ! यह सब करते बालों में कब सफेदी आ गयी,चेहरे की लकीरें कब गहरी हुईं और बूढी हड्डियों ने कब जवाब देना शुरू कर दिया, पता नहीं ! अपने मन की कब सुनी ,कब समझी ,कब की- याद नहीं .कभी घर और बच्चों के अलावा कुछ सूझा ही नहीं .
जी हाँ ! अधिकतर लोगों की यही कहानी होती है . हमारे देश में एक मध्यम वर्गीय परिवार में माता-पिता ऐसे ही ज़िन्दगी गुज़ार देते हैं और एक दिन आता है जब वे अपनी सभी ज़िम्मेदारियों का निर्वाह करने के बाद रिटायर हो जाते हैं .दफ्तर के लोग साठ वर्ष का होने पर जब गले में माला पहनाकर घर छोड़ने आते हैं तब एक परंपरा के अनुसार नाते-रिश्तेदारो को इकट्ठा कर दावत दी जाती है खूब नाच-गाना होता है .अच्छा लगता है कि चलो सब कामो से मुक्ति मिली आखिर कितने लोग होते हैं जिन्हें यह दिन देखना नसीब होता है.
अगले ही दिन एक खालीपन इंसान को घेरने लगता है.भीतर कहीं अपने बेकार हो जाने का एहसास सर उठाने लगता है.ऐसा लगता है जैसे आस –पास की हर नज़र घूर रही है .घर के एक फालतू सामान बन जाते हैं हम .एक अवसाद सा मन में घर करने लगता है .यही वह समय होता है जब हमे सँभलने की आवश्यकता होती है |
रिटायरमेंट के बाद का समय कैसे बिताये इसकी योजना बनाने की सोचें आप कोई निरर्थक सामान नहीं हैं .आपने अपना पूरा जीवन दिया है घर को और घर के सदस्यों को, अब बारी है आपकी .बचा हुआ जीवन सुख-चैन से अपने मन मुताबिक जीने की. आखिर ज़िन्दगी न मिलेगी दोबारा .अपनी कुछ धनराशि को अपने घूमने-फिरने के लिए अवश्य रखें यदि पति-पत्नी दोनों ही काम-काजी हों तो रिटायरमेंट आगे-पीछे होता है जब तक दोनों रिटायर न हो जाएँ तब तक छुटियों का भरपूर आनंद लें
अपनी दिनचर्या में सुबह शाम सैर और व्यायाम के लिए समय अवश्य निकालें याद रहे स्वस्थ्य हज़ार नियमित.अपनी दवा आदि के समय का ध्यान रखिये
अपने शौक जो आप अपनी व्यस्तता के चलते कभी पूरे नहीं कर पाए उनके विषय में सोचिये और समय निकालकर कुछ न कुछ अवश्य करिये.आप अपना बाग़बानी का शौक पूरा कर सकते हैं यदि जगह है तो कहने ही क्या घर की उगी ताज़ा सब्ज़ी का आनंद और स्वाद तो अलग होगा ही साथ ही आप मिलावटी नकली रंगी हुई सब्ज़ी खाने से भी बच जायेंगे।

यदि आप अपना पुस्तक-प्रेम निभाना चाहते हैं तो पढ़िए-कहते हैं की पुस्तक से अच्छा और सच्चा साथी और कोई नहीं होता पुस्तकें आपको दुनिया के कई नए स्थानों. की सैर कराएंगी और नए लोगों से भी मिलवाएंगी आप चाहें तो ह लिखने का शौक भी पूरा कर सकते हैं अपने मन की बात जो आप कभी न कह पाए हों अपनी कलम को कहने दीजिये न ! वैसे यदि आप टेक्नोलॉजी से परिचित हैं तो आपके लिए अन्य कई विकल्प खुल जाते हैं आप एंड्राइड के माध्यम से बहुत कुछ सीख या कर सकते हैं अपने पुराने मित्रों एवं सम्बन्धियों से एक बार फिर संपर्क साध सकते हैं यह काफी रोमांचक और प्रसन्नता देने वाला होगा . अपने बच्चों व्नातीपोतों से सीख सकते हैं .एक नयी दुनिया के द्वार खुल जायेंगे आपके लिए .
ज़िन्दगी की उलझनों और आपा-धापी में हमारे रिश्तों के धागे कुछ कमज़ोर पड़ जाते हैं लोगों की हमेशा यह शिकायत ही रहती है कि अब हम स्वार्थी हो गए हैं अपने में मगन रहनेवाले हो गए हैं किसी से कोई मतलब ही नहीं रखते....तो इन मीठे उलाहनों पर भी ध्यान देने और सब की शिकायत मिटने का अच्छा समय है अब आपके पास सबसे मिलिए जूलिये और पुराने समय कि यादें ताज़ा करिये सब के साथ मिलकर तीज-त्योहारों का आनंद लीजिये नाचते- गाते, हँसते- खेलते जीवन व्यतीत कीजिये उम्र बस एक नंबर है आप दिल से युवा महसूस करेंगे .स्वस्थ्य भी अच्छा रहेगा .
नयी पीढ़ी के लोगों के साथ विचारों कि कश- म- कश में उलझकर अपना और बच्चों का जीवन मुश्किल कर लेते हैं हम कभी-कभी .यदि आप उनकी सहूलियतों का ध्यान रखेंगे,उनकी भावनाओं को समझेंगे तो वे कभी आपसे विमुख न होंगे और जीवन आसान हो जायेगा .
एक अंतिम किन्तु आवश्यक बात,अपनी जमा-पूंजी में से कुछ बच्चों को अवश्य दें इससे आपसी प्यार और विश्वास बढ़ेगा,परंतु अपने लिए एक ऐसी राशि अवश्य रखें जिसके सहारे आपका शेष जीवन सरलता से बीत जाये और बच्चों को भी यह आशा रहे कि सेवा करेंगे तो मेवा मिलेगा ...अन्यथा न लें,ऐसी सोच प्रायः देखने को मिलती है वैसे इसका यह अर्थ कतई नहीं है कि हम अपने बच्चों पर भरोसा न करें .उनपर पूरा भरोसा रखें.आपसी सहयोग से चलें और यह तो कदापि न समझें कि अब तो जीवन थोड़ा ही बचा है काट लेंगे जैसे-तैसे यह सोचकर बैठे रहेंगे कि अब तो बस कुछ ही दिन जीना है यूँही काटलें,बुढ़ापे में कैसा घूमना और कैसा आनंद .तो जीवन सिमटकर और छोटा तथा कठिन हो जायेगा .
जीवन जीने के लिए है जियो जीभर के .
एक टिप्पणी भेजें

special post