यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 22 फ़रवरी 2017

मनु का जादू - गीतिका गोयल



एक बड़े से घर में पार्टी चल रही थी। चारों ओर सुंदर सजावट थी।कीमती बर्तन सजे हुए थे और बढिय़ा और स्वादिष्ट खाना मेजों पर रखा हुआथा। मनु को भी उस पार्टी में बुलाया गया था। जब मनु घर के अंदर आ रहा था तो उसने देखा कि बाहर दो छोटे-छोटे बच्चे खड़े थे। वे बहुत ही ललचाई नजरों से अंदर
कैप्शन जोड़ें
रखे खाने को देख रहे थे, उनको देखते ही पता चलता था कि उन्होंने काफी देर से कुछ खाया नहीं था। बहुत भूखे थे बेचारे।मनु ने अंदर जाकर देखा कि लोग खाने की प्लेटों में ढेर सारी चीजें ले लेते थे। फिर उसमें से आधा खाते थे और आधा फेंक देते थे। मनु को यह सब अच्छा नहीं लगा। वह एक दयालु और समझदार व्यक्ति था। उसने तय किया कि वह उन बच्चों की मदद करेगा।मनु ने चुपके से दो रोटियाँ अपनी जेब में रख लीं। फिर उसने ताली बजाकर सबको पास बुलाया और घोषणा की, ‘मैं आपको एक जादू दिखाना चाहता हूँ।’यह कहकर उसने उन दोनों बच्चों को अंदर बुलाया। फिर उसने दो रोटियाँ और उठाईं और बोला, ‘देखिए ये दो रोटियाँ मैं इन दोनों बच्चों की जेबों में रख दूँगा। एक रोटी एक की जेब में और दूसरी रोटी दूसरे की जेब में और बाद में ये रोटियाँ मेरी जेब में से निकलेंगी।’सब ताली बजाने लगे। सबकी निगाहें बच्चों पर थीं। मनु ने रोटियाँ बच्चों की जेबों में रख दीं। फिर उसने एक मंत्र पढऩे का नाटक किया।इसके बाद उसने अपनी जेब में हाथ डाला और रोटियाँ निकालकर सबको दिखाईं।सारे मेहमान हैरत में पड़ गए। सबने मनु के जादू की तारीफ़ की।मनु बोला, ‘धन्यवाद, अब यदि आप कहें तो ये दो रोटियाँ मैं इन्हींदोनों बच्चों को दे देता हूँ।’‘हाँ-हाँ, क्यों नहीं।’ सबने कहा।मनु ने रोटियाँ बच्चों को दे दीं। बच्चे रोटियाँ खाते हुएख़ुशी-ख़ुशी बाहर चले गए। वे भी जादू को सच मान रहे थे। कुछ देर बाद जब उन्होंने अपनी जेबों में हाथ डाला तब उनको एक-एक रोटी और मिली। अब यह जादू कैसे हुआ और ये रोटियाँ उनकी जेबों में कैसे आईं, यह बात वो बिल्कुल समझ नहीं पाए।मनु का जादू तुम्हें समझ में आया क्या?

special post

'me too' (मैं भी)-खयालात- सदन झा

आजकल वैश्विक स्तर पर 'me too' (मैं भी) अभियान चल रहा है। लड़कियां, महिलाएं, यौन अल्पसंख्यक तथा यौनउत्पीड़ित पुरुष हर कोई अपने साथ...